Jamia Milia Islamia Violence : Both Sides Are Wrong
Incidents

18-Feb-2020

Jamia Milia Islamia Violence : Both Sides Are Wrong

Playing text to speech

जामिया मिलिया हिंसा : गलती दोनों तरफ की है

जामिया मिलिया इस्लामिया की हिंसा को हुए महीने भर से ज़्यादा का समय हो रहा है लेकिन लोग इसको भुनाने और अपने राजनितिक फायदे के लिए इस्तेमाल करने पर तुले हुए है. अब ऐसा प्रतीत होता है कि गलती दोनों तरफ की है. ऐसा इसलिए है क्योंकि अब दोनों तरफ के लोग एक दूसरे पर निशाना साधने के लिए वीडियो रिलीज़ कर रहे है और किसी भी आम आदमी को शायद अभी तक यह बात समझ में ही न आई हो कि गलती किसकी है और सही-गलत आखिर इस पूरे विवादित हिंसा काण्ड में है क्या ?

नागरिकता संशोधन अधिनियम कानून को लागू हुए अब काफी समय बीत चुका है लेकिन इसे मुस्लिम विरोधी बताकर प्रोपगैंडा और अनावश्यक विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है. यह अभी भी शाहीन बाग़ में देखा जा सकता है तो वहीं जामिया मिलिया इस्लामिया सेंट्रल यूनिवर्सिटी में यह चीज़ देखने को मिली थी. कुछ बाहरी नकाबपोश लोग खुद को छात्र बता और वहीं के छात्र-छात्राओं के साथ मिलकर तमाशा करते है और पूरे कैंपस में एकजुट होते हुए पुलिस पर हमला कर बैठते है जिससे विवश होकर पुलिस लाठीचार्ज कर देती है और इसी में जो लोग शामिल नहीं भी है उन्हें भी झेलना पड़ जाता है. 

             READ HERE MORE : China Can Be Helped Only By India To Fight Coronavirus

हमले तो इतने ज़्यादा हुए दोनों तरफ से कि मानो सब एकाएक ही हो गया और किसी को भी संभलने-समझने की नौबत भी नहीं आई हो. लेकिन ऐसा बिलकुल नहीं है, जामिया के छात्रों को इस बात का इल्म होने था कि आखिर होने क्या वाला है और इसी के तहत उसने सारे दुष्परिणाम जानते हुए ही सब किया था और पुलिस की गलती मात्र यही थी कि उसने बिना चेतावनी एवं सावधानी बरते हुए छात्रों पर अपनी कार्यवाही कर डाली जिसका परिणाम यह हुआ कि उसके लिए कुछ भी बचाव में कहना या करना दूभर हो गया. 

जामिया के पूरे प्रकरण में दोनों पक्षको की गलती निश्चित तौर पर सामने आई है और केवल एक निष्पक्ष जांच ही पूरे फसाद की कहानी को सामने ला पायेगी. लेकिन हमें यह बात को नहीं भूलना होगा कि बिना चिंगारी के धुआं नहीं उठता है फिर यह इस पूरे काण्ड की चिंगारी कहाँ से उठी ? यही सवाल मुख्य है जिसका उत्तर प्रमुख है. 

User
Written By
I am a content writter !

Comments

Solutions